सुकन्या समृद्धि योजना | सरकार योजनाएं

Name of post: सुकन्या समृद्धि योजना | सरकार योजनाएं

Short Information: बालिका के कल्याण के लिए जीवन के महावपूर्ण क्षण जैसे शिक्षा और विवाह में वित्तीय प्रावधान हेतु । सुकन्या समृद्धि योजना 2 दिसंबर 2014 बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं के तहत शुभारंभ किया गया। सुकन्या समृद्धि खाता योजना कर लाभ के साथ 8.4% की प्रतिस्पर्धी ब्याज दर प्रदान करती है।

सुकन्या समृद्धि योजना | सरकार योजनाएं

बालिका के कल्याण के लिए जीवन के महावपूर्ण

WWW.SARKARIYOJNAA.IN

पात्रता

नैसर्गिक/कानूनी अभिभावक कन्या शिशु के जन्म होने के बाद से दस वर्ष की होने तक उसके नाम पर खाता खोल सकते हैं.

ब्याज दर

-खाताधारक अपनी जमा राशि पर 8.4% ब्याज कमा सकते हैं
-वित्तीय वर्ष के अंत में खाते में वार्षिक ब्याज
-खाता खोलने की तारीख से 21 वर्ष पूरा होने के बाद कोई ब्याज देय नहीं है

न्यूनतम राशि

कोई भी खाता कम से कम दो सौ पचास रूपए के आरंभिक जमा के साथ तथा उसके पश्चात पचास रूपए के गुणक में जमा कर सकेगा । तत्पश्चात जमा इस शर्त के अंतर्गत होगा कि किसी खाते में एक वित्तीय वर्ष में कम से कम दो सौ पचास रूपए रु जमा किए जाए. किसी भी खाते में जमा की गई कुल राशि एक वित्तीय वर्ष में एक लाख पचास हज़ार रूपए से अधिक नहीं हो ।

अधिकतम राशि

एक वित्तीय वर्ष में रु. 1.5 लाख जमा किए जा सकते हैं. यह राशि एक बार में या अनेक बार में सौ के गुणक में जमा की जा सकती है लेकिन अधिकतम सीमा पार नहीं होनी चाहिए.

पात्रता

नैसर्गिक/कानूनी अभिभावक कन्या शिशु के जन्म होने के बाद से दस वर्ष की होने तक उसके नाम पर खाता खोल सकते हैं.

न्यूनतम राशि

कोई भी खाता कम से कम दो सौ पचास रूपए के आरंभिक जमा के साथ तथा उसके पश्चात पचास रूपए के गुणक में जमा कर सकेगा । तत्पश्चात जमा इस शर्त के अंतर्गत होगा कि किसी खाते में एक वित्तीय वर्ष में कम से कम दो सौ पचास रूपए रु जमा किए जाए. किसी भी खाते में जमा की गई कुल राशि एक वित्तीय वर्ष में एक लाख पचास हज़ार रूपए से अधिक नहीं हो ।

अधिकतम राशि

एक वित्तीय वर्ष में रु. 1.5 लाख जमा किए जा सकते हैं. यह राशि एक बार में या अनेक बार में सौ के गुणक में जमा की जा सकती है लेकिन अधिकतम सीमा पार नहीं होनी चाहिए.

परिपक्वता अवधि

21 वर्ष की समाप्ति पर खाता परिपक्व हो जाएगा.

आय कर लाभ

‘सुकन्या समृद्धि खाता’ योजना के तहत जमाराशियां आय कर अधिनियम, 1961 की 80 सी के तहत आय कर कटौती हेतु पात्र हैं.

ब्याज दर

-खाताधारक अपनी जमा राशि पर 8.4% ब्याज कमा सकते हैं
-वित्तीय वर्ष के अंत में खाते में वार्षिक ब्याज
-खाता खोलने की तारीख से 21 वर्ष पूरा होने के बाद कोई ब्याज देय नहीं है

अन्य विशेषताएं

खाते की संचालन अवधि के दौरान यदि खाता धारक एनआरआई बन जाए, खाते को परिपक्वता तक जारी रखा जाएगा। परंतु, यदि खाताधारक भारत की नागरिकता समाप्त कर देता हो तो खाता बंद समझा जाएगा।

किसी भी संरक्षक द्वारा खाता खोला जा सकता है, उस कन्या के नाम से जिसकी उम्र खाता खोलने की तारीख पर दस वर्ष न हुई हो.

किसी भी परिवार के अधिकतम दो खाते खोले जा सकते हैं , परन्तु दो से अधिक खाते किसी परिवार में तब ही खोले जा सकेंगे यदि ऐसे बच्चे जन्म के प्रथम द्वितीय प्रक्रम में जन्मे हो या दोनों ऐसे बच्चों हो, जो जन्म के समय में जुड़वां/तीन बच्चों एक या साथ जन्मे हो, और संरक्षक द्वारा शपथ पत्र के साथ उनका जन्म प्रमाणपत्र प्रस्तुत किया गया हो.

  • ज्यदा सरकारी योजना यहा से देखे 

  •  Click Here

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top